घटना-दुर्घटना संग्रामपुर

जमीनी विवाद को लेकर पीड़ित परिवार के सदस्यों ने तारापुर संग्रामपुर मुख्य मार्ग को किया जाम,

1,884 Views

जमीनी विवाद को लेकर पीड़ित परिवार के सदस्यों ने तारापुर संग्रामपुर मुख्य मार्ग को किया जाम,

 संग्रामपुर।लंबे समय से चले आ रहे जमीनी विवाद को लेकर पीड़ित परिवार के सदस्यों ने संग्रामपुर थाना के समीप तारापुर संग्रामपुर मुख्य मार्ग को 15 मिनट के लिए  जाम कर दिया। जाम की सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष संग्रामपुर ने जाम स्थल पर पहुंच कर जाम को हटवाया एवं लोगों को सड़क जाम नहीं करने की सख्त हिदायत दी। जानकारी के अनुसार थाना क्षेत्र के चंदनिया गांव की सत्यभामा देवी पति सीताराम दास मुख्य सड़क के किनारे करीब 5 वर्षों से अपना घर बनाकर रह रहे हैं। उसके अलावा घर के सटे बाडी में भी घेरा डाले हुए हैं। यह जमीन उन्होंने वर्ष 2011 में बांका जिला के बछोर गांव निवासी हीरालाल झा से खरीदी है। सत्यभामा देवी के अनुसार हीरालाल झा से 4 कट्ठा जमीन की बात हुई थी। इसके एवज में उन्होंने 2011 में सात लाख रुपए दे चुकी है। हीरालाल झा द्वारा वर्ष 2014 में मात्र 10 धुर जमीन की रजिस्ट्री किया गया है। शेष जमीन के बारे में कहा गया कि और जमीन की रजिस्ट्री एक साथ ही कर देंगे। उसी समय से हम मकान एवं उक्त जमीन में घेरा लगा कर अपने कब्जे में रखे हुए हैं। इधर कुछ दिनों से हीरालाल झा के पुत्र चंद्रशेखर झा एवं उनके चचेरे भाई मिट्ठू झा एवं फेकू झा आदि मिलकर जमीन से बेदखल करने का प्रयास कर रहे हैं। इस सिलसिले में मंगलवार की सुबह चंद्रशेखर झा जाला गांव के एक व्यक्ति को पैसा देकर कुछ लोगों को साथ लेकर आया और बाड़ी में बने छप्परनुमा घर को उजाड़ दिया। मेरे द्वारा इसका विरोध करने पर धक्का-मुक्की एवं मारपीट भी की गई। यह देख कर हमने अपने करीबी लोगों के साथ मिलकर सड़क जाम कर दिया। इसके बाद पुलिस आई समझाने बुझाने के बाद जाम हटा लिया गया। इस घटना को लेकर एसयूसीआई के प्रखंड कमेटी सचिव रंजीत राम ने कड़ी निंदा करते हुए कहा कि सत्यभामा देवी को दबंगों द्वारा लगातार तंग तबाह करवाया जा रहा है। जबकि उक्त जमीन का केवाला हीरा झा ने रुपया लेकर वर्ष 2014 में ही कर दिया है। जिसका आज तक दाखिल खारिज नहीं हो पा रहा है। जो स्वतः एक जांच का विषय है। बावजूद इसके फैसला न्यायालय में लंबित है, ऐसे में बिना किसी  न्यायालय के आदेश से गुंडों द्वारा गरीबों का घर उजाड़ना अन्याय है। इसके खिलाफ पार्टी जन आंदोलन करेगी। घटना को लेकर थाना अध्यक्ष सर्वजीत कुमार ने बताया कि सड़क जाम की सूचना मिलते ही जाम हटवा दिया गया। मामला जमीन संबंधित विवाद से जुड़ा हुआ है। थाना स्तर से दोनों ही पक्षों के विरुद्ध निरोधात्मक कार्यवाही की गई है। अनुमंडल पदाधिकारी तारापुर द्वारा एक पक्ष को जमीन पर जाने से निषेध किया गया है।  विवाद को लेकर सड़क जाम करना कानूनी अपराध है। सड़क जाम करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। भूमि मालिक चंद्रशेखर झा ने बताया कि न्यायालय से उनके पक्ष में फैसला सुनाया गया है और विपक्षी को उक्त जमीन पर जाने से मना करने हेतु निषेधाज्ञा आदेश जारी किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *