खास खबर मुंगेर

जिला वासियों के नाम मुंगेर के जिला पदाधिकारी का संदेश,

397 Views

76 वें स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 2022 के अवसर पर मुख्य स्वतंत्रता दिवस समारोह स्थल पोलो मैदान में ज़िलाधिकारी नवीन कुमार के द्वारा झंडोतोलन किया गया। झंडोतोलन करने के उपरांत ज़िलाधिकारी ने अपने संबोधन में कहा कि आजाद देश के 76वें सालगिरह के पावन अवसर पर इस ऐतिहासिक समारोह में उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्ति, प्रशासनिक पदाधिकारीगण, प्रिंट एवं इलेक्ट्रोनिक मीडियाकर्मी तथा अन्य सभी अतिथियों को मैं सहृदय शुभकामनाएँ देता हूँ। आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। तथा हर घर में तिरंगा लहराता दिख रहा है। यह उत्सवी माहौल हम सबों को आजादी की लड़ाई में अपने प्राण न्योछावर करने वाले स्वतंत्रता सेनानियों एवं अमर शहीदों के प्रति भावपूर्ण श्रद्धांजलि है। हम ऐसे महान सपूतों को सहृदय श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं।

उत्तरवाहिनी गंगा के अविरल तरंगों की मधुर ध्वनि से अलंकृत सुंदरतम तटों के समीप बसा मुंगेर जिसे इतिहास के पन्नों में मुद्गल के नाम से भी जाना जाता है, जो अपनी ऐतिहासिक, साहित्यिक, आध्यात्मिक के साथ-साथ मनोरम प्राकृतिक बनावट, पहाड़ियों की श्रृंखलाएं वन सम्पदा आदि के कारण आकर्षक रहा है। मुंगेर की ऐतिहासिक धरा मुद्गल ऋषि तथा श्रृंगी ऋषि की साधना स्थल, दानवीर कर्ण की राजधानी, सीताकुंड, सीताचरण, पीर नाफे साहब का मजार, कष्टहरणी घाट, ऋषिकुंड, विश्व योग विद्यालय, चीनी यात्री ह्वेनसांग के यात्रा वृतान्त के अनुसार मोदगिरी के रूप में प्रचलित क्षेत्र को मुर्शिदाबाद के स्थान पर मीर कासिम द्वारा अपनी राजधानी बनाया जाना जैसे और कई पौराणिक महत्व के कारण विष्व विख्यात रहा है। बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केशरी डॉ० श्रीकृष्ण सिंह की कर्म स्थली मुंगेर रही है। इसी माटी में जन्मे महान चित्रकार नंदलाल बोस ने भारतीय चित्रकला को सर्वोच्च स्थान प्राप्त कराया

जिला प्रशासन की प्रतिबद्धता एवं मेहनत से माननीय मुख्यमंत्री के दूरदर्शिता तथा समेकित विकास की संकल्पना को व्यवहारिक स्तर पर सफलीभूत कराया गया है। लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्धता में ग्रामीण क्षेत्रों के सभी घरों तक नल का जल कार्यक्रम” के तहत् शुद्ध पानी पहुॅचाया गया है । शहरी क्षेत्र में तीनों नगर निकायों के सभी 96 वार्डों में से 62 वार्डों में पेयजल हेतु कार्य पूर्ण किया जा चुका है तथा शेष वार्डों में तेजी से पाईपलाइन बिछाने का कार्य किया जा रहा है। आष्वस्त किया जाता कि माह तक शहर के सभी घरों में शुद्ध पानी उपलब्ध कराया जाएगा। सक्षम बिहार – स्वावलंबी बिहार अंतर्गत सात निष्चय पार्ट-2 में लक्षित स्वच्छ गॉव- समृद्ध गाँव के उद्देष्य की प्राप्ति के लिए ठोस एवं तरल अपषिष्ट प्रबंधन का कार्य जिला में प्रारंभ किया गया है। अभी 274 ग्राम पंचायत के वार्डों में कचरा उठाव जारी है तथा 26 जनवरी, 2023 तक जिले के शेष पंचायतों में ठोस एवं अपषिष्ट प्रबंधन का कार्य शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है। साथ ही, अबतक दलित-महादलित बस्तियों में 154 सामुदायिक स्वच्छता परिसर का निर्माण पूर्ण किया गया है एवं 72 निर्माणाधीन है, जिसे अक्टूबर माह में पूर्ण कर लिया जाएगा। जिला के तीनों अनुमंडल में एक-एक प्लास्टिक प्रोसेसिंग यूनिट का निर्माण कराया जाएगा।

पर्यावरण संरक्षण हेतु सरकार की महत्वपूर्ण जल जीवन हरियाली अभियान अन्तर्गत जिले में 63 जल निकायों को अतिक्रमण मुक्त करते हुए जीर्णोद्धार किया गया है। अबतक कुल 551 जल संचयन संरचनाओं का जीर्णोद्धार किया गया है। इस कड़ी में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में 423 सावर्जनिक कुऑ, 793 चेकडैम का जीर्णोद्धार किया गया । छह हजार से अधिक सार्वजनिक चापाकलों, 250 कुओं कि किनारे सोख्ता का निर्माण किया गया है। पौधशाला सृजन एवं सघन वृक्षारोपण में अठासी हजार से अधिक पौधे लगाये गये हैं। अबतक कुल 31 सरकारी भवनों में सोलर प्लान्ट लगाया गया है जिसके परिणाम से विद्युत विपत्र में 29 प्रतिशत की कमी आयी है। माह अगस्त में राज्य स्तर पर जिले का रैंकिंग दूसरा रहा है।

मनरेगा योजना में सक्रिय मजदूरों को 22 लाख से अधिक मानव दिवस सृजन किया गया है। मनरेगा योजना में जुलाई माह में राज्य स्तर पर जिले का रैंकिंग प्रथम रहा। आवास विहीन परिवारों को विभिन्न आवास योजना के तहत् वित्तीय वर्ष में 26 से अधिक लाभुकों को आवास निर्माण कराया गया है। 219 भूमिहीन परिवारों को वास भूमि के तहत् पर्चा देकर आवास योजना का लाभ दिया गया है। ग्रामीण महिलाओं के जीविकोपार्जन एवं उनकी आर्थिक उन्नति के लिए जीविका के माध्यम से 11 हजार से अधिक स्वयं सहायता समूह का गठन कर डेढ़ लाख से अधिक परिवार को जोड़ा गया है जिन्हें विभिन्न योजना के तहत् लाभान्वित किया जा रहा है। धरहरा प्रखंड के बहुल आदिवासी ग्राम करैली और सराधी में दारू से दूध की ओर कार्यक्रम के तहत् शराब व्यवसाय से जुड़े 51 परिवार को गौ पालन एवंबांस उत्पाद सामग्री के निर्माण हेतु प्रशिक्षण देकर लाभ दिया जा रहा है। इसी प्रकार टेटियाबम्बर के 11 एवं खड़गपुर प्रखंड के 30 जीविका स्वयं सहायता समूह की दीदीयों के बीच ई-रिक्शा प्रदान किया गया है। जिला प्रषासन कृत संकल्पित है कि प्रत्येक दलित-महादलित टोलों में सभी विकासपरक एवं कल्याणकारी योजनाओं से आच्छादित करायें जिसपर लगातार कार्य किये जा रहे हैं।

कृषि के क्षेत्र में किसानों के आर्थिक उत्थान हेतु चलाये जा रही योजनाओं में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत् 67 हजार से अधिक किसानों को लाभ दिया गया है। पूर्व वर्ष में आयी बाढ़ से प्रभावित 14 हजार से अधिक किसानों को फसल क्षति का अनुदान दिया गया है। मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजनान्तर्गत 12,200 किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड का वितरण किया गया है। अन्त्योदय अन्न योजना, PHH प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना इत्यादि के शत-प्रतिशत् लाभुकों को निर्धारित दर एवं मात्रा में खाद्यान का वितरण किया जा रहा है। सामाजिक एवं आर्थिक न्याय की दिशा में जिले में सभी वृद्ध, असहाय, महिला एवं दिव्यांगजनों को विभिन्न योजनाओं एवं पेंशन घटकों के तहत् लाभ दिया जा रहा है।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में जनमानस को मुफ्त स्वास्थ्य सुविधा दिये जाने हेतु स्वास्थ्य आधारभूत संरचना के अन्तर्गत 01 मॉडल सदर अस्पताल, 04 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र 15 स्वास्थ्य उपकेन्द्र-सह- हेल्थ एंड वेलनेस सेन्टर, 03 अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के साथ-साथ तारापुर एवं खड़गपुर में ए०एन०एम० स्कूल, जमालपुर प्रखंड में एक नया शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, जी०एन०एम० स्कूल, पारा मेडिकल स्कूल का प्रारंभ किया गया है। साथ ही मुंगेर जिला में एक मेडिकल कॉलेज की स्थापना हेतु सभी आवश्यक कार्रवाईयाँ पूरी की जा चुकी है एवं जल्द ही इसका शुभारम्भ किया जाएगा। इसके अतिरिक्त सभी स्वास्थ्य संस्थानों में विभिन्न स्वास्थ्य जाँच, अल्ट्रासाउण्ड, ऑक्सीजन पाईप, अनुमंडलीय अस्पताल में ऑक्सीजन प्लान्ट, एक्स-रे सेवा इत्यादि संचालित किये गये है। सदर अस्पताल में पूर्व से देय सुविधाओं के अतिरिक्त इस साल सीटी स्कैन, डायलेसिस, अत्याधुनिक तकनीक से सफाई की व्यवस्था की गयी है। स्वास्थ्य सुविधाओं के दृष्टिकोण से टीबी कार्यक्रम तथा मिशन परिवार विकास अभियान अन्तर्गत पुरूष बंध्याकरण, आई0यू0सी0डी० एम०पी०ए० कार्यक में मुंगेर जिले को बिहार मेंप्रथम स्थान प्राप्त किया। साथ ही, विश्व जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा 2022 में महिला बंध्याकरण में पूरे बिहार में प्रथम स्थान पर मुंगेर जिला रहा है।

शिक्षा के क्षेत्र में चहुँमुखी विकास के तहत् कक्षा 01 से 8 के 40 हजार से अधिक छात्रों का नामांकन प्रवेश उत्सव विशेष अभियान के दौरान किया गया है जिससे जिले के कुल 1169 सरकारी विद्यालयों में 03 लाख से अधिक छात्र नामांकित हो गये। लगभग दो लाख नामांकित बच्चों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तक वितरण हेतु डीवीटी के माध्यम से छात्रों के खाते में राशि निदेशालय स्तर से भेजी गयी है। समावेशी शिक्षा अन्तर्गत दिव्यांग बच्चों हेतु 130 श्रवण यंत्र, 22 व्हीलचेयर तथा 17 ट्राई साईकिल का वितरण किया गया। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिये जाने हेतु वर्ग 01 से 05 के लिए 343 एवं वर्ग 06 से 08 के लिए 180 शिक्षकों की नियुक्ति की गयी है। 400 क्षमता वाले राजकीय अम्बेदकर आवासीय बालिका उच्च विद्यालय में नामांकित 387 छात्राओं को निःशुल्क शिक्षा, आवासन भोजन दिया जा रहा है। जिले में राजकीय अन्य पिछड़ा वर्ग कन्या आवासीय उच्च विद्यालय, जननायक कर्पूरी ठाकुर कल्याण छात्रावास संचालित कर सुविधायें दी जा रही है। अल्पसंख्यक विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना का लाभ भी इन्टर उत्तीर्ण विद्यार्थियों को दिया जा रहा है।

जिलान्तर्गत उद्योग के विस्तार के लिए प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत् 300 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है। मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति / जनजाति / अतिपिछड़ा / महिला एवं युवा उद्यमी योजना से 196 लोगों को व्यवसायिक प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध कराया गया है। सरकार का यह उद्देश्य है कि प्रत्येक वर्ग के बेरोजगार व्यक्ति को कार्य कुशल व्यवसायी बनाते हुए रोजगार से आच्छादित कराया जाय जिसमें आमजनों की भागीदारी की आवश्यक है तथा जिला प्रशासन हमेशा इस कदम में आने वाली समस्याओं के निराकरण के लिए तैयार रहेगा। इसलिए अधिक से अधिक लोग जिले में उद्योग को बढ़ावा देने में आगे आयें। जीविका द्वारा चलाये जा रही योजनाओं से ग्रामीण महिलाओ को आर्थिक सबल बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के कुटीर उद्योग के माध्यम से रोजगार दिया गया है। महादलित बस्तियों में रहने वाली ग्रामीण महिलाओं को विशेषकर इन सभी योजनाओं से शत-प्रतिशत आच्छादित किया जा रहा है। जिसका एक उदाहरण खड़गपुर के तितपनिया आदिवासी बहुल टोला है जहाँ जीविका,मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना, अमृत सरोवर, पेंशन, राशन, ग्रामीण सड़क, बिजली इत्यादि अन्य योजनाओं से शत-प्रतिशत आच्छादित कर ग्रामवासियों के जीवनशैली में परिवर्तन लाया गया एवं आर्थिक, सामाजिक तौर पर सबल बनाया गया तथा लगातार और बेहतर करने की दिशा में कार्य किये जा रहे हैं ।

जिले की चहुॅमुखी विकास हेतु प्रारंभ किये गये अभियान में विभिन्न आधारभूत संरचनाओं का निर्माण भी अपनी एक अहम् भूमिका अदा करता है। सभी समस्याओं का निराकरण कराते हुए मुंगेर गंगा रेल सह सड़क पुल, घोरघट पुल को प्रारंभ कराया गया। इसके पश्चात् अन्य निर्माण परियोजनाओं जिसमें मेडिकल कॉलेज, मुंगेर विश्वविद्यालय, वन स्टॉप सेन्टर, पैसरा में सी०आर०पी०एफ० कैम्प, तीनों अनुमंडल में अग्निशाम भवन, रिजीनल ड्राईविंग ट्रेनिंग सेन्टर, अल्पसंख्यक आवासीय बालिका विद्यालय, ट्राईबल फूड पार्क, अन्य पिछड़ा वर्ग कन्या आवासीय उच्च विद्यालय, एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, जमालपुर, असरगंज एवं बरियारपुर प्रखंड सह आवासीय भवन, सफियासराय ओ०पी०, ईस्ट कॉलोनी, हरपुर, बरियारपुर यातायात थाना सहित जिलान्तर्गत 45 आंगनबाड़ी केन्द्रों के निर्माण हेतु भूमि चिन्हित कर निर्माण प्रक्रिया की दिशा में कार्य किये जा रहे है तथा शीघ्र ही सेवा प्रदान किये जाने के लिए मुंगेर जनमानस को यह उपलब्ध कराया जाएगा।

अन्ततः मैं इस पावन अवसर पर आप सभी को पुनः आजादी के इस महा उत्सव को गौरवान्वित होकर मनाने के लिए सहृदय बधाई एवं शुभकामना अर्पित करता हूँ तथा देश की एकता, अखण्डता एवं साम्प्रदायिक सद्भाव की मंगलकामना करता हूँ। मुंगेर के आम जनों से अपील करता हूँ कि सरकार के शराबबंदी कानून का पालन करें तथा अपने मुंगेर के आर्थिक, सामाजिक, शैक्षणिक एवं औद्योगिक क्षेत्र के विकास में जिला प्रशासन के सहयोगी बनें, ताकि हम अपने परिवार को एक बेहतर एवं सबल, सुखद एवं समृद्ध समाज दे सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *