मुंगेर स्पेशल रिपोर्ट

सोचा ना था जिंदगी में … कैद इंसान हो जाएगा : आत्मीय, “गांधीजी के विचार तथा सपना पर गोष्टी सह मुशायरा एवं कवि सम्मेलन” का आयोजन,

605 Views

सोचा ना था जिंदगी में … कैद इंसान हो जाएगा : आत्मीय,

“गांधीजी के विचार तथा सपना पर गोष्टी सह मुशायरा एवं कवि सम्मेलन” का आयोजन,

 मुंगेर।

“सोचा ना था जिंदगी में/ दौर ऐसा भी आ जाएगा/ बिना सलाखें  हथकड़ी /कैद इंसान हो जाएगा … ” कोरोना काल में आम लोगों की बेबसी को दर्शाते हुए उपरोक्त पंक्ति अपनी रचना के साथ वयोवृद्ध पत्रकार सह साहित्यकार मधुसूदन आत्मीय ने कही। वे गांधी जयंती के अवसर पर राजा कर्ण मीर कासिम समिति द्वारा आयोजित “गांधीजी के विचार तथा सपना पर  गोष्ठी सह मुशायरा एवं कवि सम्मेलन” में अपनी रचना पढ़ रहे थे।   अध्यक्षता यदुनंदन झा ने की। संचालन समिति के सचिव एहतेशाम आलम कर रहे थे।  समिति के अध्यक्ष जफर अहमद ने प्रशाल में बैठे बुद्धिजीवियों एवं शायरों को संबोधित करते हुए कहा कि पूरा विश्व खासकर भारत आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मना रहा है। भारत एक मजबूत देश है और आज अगर भारत को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है, तो इन दो महापुरुषों बहुत बड़ा योगदान है।  लोग कहावत कहते हैं कि ” मजबूरी का नाम महात्मा गांधी ” पर हमें कहना चाहिए  “मजबूती का नाम महात्मा गांधी” लोगोंं को अपनी धारणाएं बदलना चाहिए। एहतेशाम आलम ने अपनी रचना प्रस्तुत करते हुए कहा कि ” खुशबू को फैलने का शौक है बहुत मगर/ मुमकिन नहीं हवाओं से रिश्ता किए बगैर ……। सेवानिवृत्त शिक्षक सह कवि इकबाल अहमद इकबाल ने कुछ यूं पढा ” हम तेरे इकबाल से चलते हैं सीना तान कर/ नाज हो जाता है तेरे कहलाने के बाद/ मेरी क्या मुराद है कि लोग मेरा नाम जाने/ अदब औरत एहतराम कर लेते हैं तेरे हो जाने के बाद …..। अनिरुद्ध सिन्हा ने “मुझसे बिछड़ के आज नेदामत उसे भी थी/ कुछ मैं भी था जल्दबाजी तो उज लत उसे भी थी….” प्रस्त्तुत कर खूब वाहवाही बटोरी।आरडी एंड डीजे कॉलेज के प्रो. राशिद तराज ने गांधी जी को याद करते हुए अपनी शायरी से लोगों के मन को खुश कर डाला। इसके अलावा वक्ताओं ने कहा कि गांधी जी का सपना था कि  भारत को विश्व के पटल पर एक मजबूत देश बनकर उभरना है। गांधीजी की डांंडी यात्रा देश को एक नई दिशा दी। वक्ताओं ने कहा कि हमें गांधी जी के बताए हुए रास्ते पर चलना चाहिए, तभी यह देश तरक्की करेगा।  मौके पर  विकास कुमार, अंजुम हसन मुंगेरी,  मौलाना अब्दुल्लाह बुखारी, शिशिर कुमार लालू, डॉ. रोहित कुमार गौतम, जुबेर आलम, मोहम्मद आबिद सहित दर्जनों लोग थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *