खास खबर पटना बिहार

जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का मुख्यमंत्री ने किया उद्घाटन,

626 Views

जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का मुख्यमंत्री ने किया उद्घाटन,

पटना,
मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने 781 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल, मधेपुरा में शिलापट्ट का अनावरण कर चिकित्सकीय सेवाओं का शुभारंभ करने के पश्चात नवनिर्मित अस्पताल भवन का अवलोकन किया। चिकित्सकीय सेवाओं के शुभारंभ के अवसर पर आयोजित जनसभा का दीप प्रज्ज्वलित कर मुख्यमंत्री ने शुरुआत की। जनसभा को लेकर बने मंच पर मुख्यमंत्री ने रिमोट के माध्यम से शिलापट्ट का अनावरण कर 340 करोड़ रुपये की लागत वाली 2,502 योजनाओं का उद्घाटन एवं 2,161 योजनाओं का शिलान्यास किया। स्वास्थ्य मंत्री श्री मंगल पांडेय ने पौधा, पुस्तक, अंगवस्त्र एवं प्रतीक चिन्ह भेंटकर मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया। जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल, मधेपुरा से संबंधित लघु फिल्म मुख्यमंत्री के समक्ष प्रदर्शित की गयी।
समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 2005 में यहां मेडिकल काॅलेज बनाने का निर्णय लिया गया था, जिसका षिलान्यास 6 जून 2013 को किया गया। मुझे आज इस मेडिकल काॅलेज का उद्घाटन करने का अवसर प्राप्त हुआ है इसलिये मुझे बेहद प्रसन्नता हो रही है। उन्होंने कहा कि पहले सरकारी अस्पतलों में लोग इलाज कराने नहीं के बराबर जाते थे। प्रखण्ड स्तर पर जो प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र हैं, उसमें प्रतिमाह औसतन 39 मरीज ही आते थे। अब स्वास्थ्य सेवाओं में इतनी सुविधा पिछले 14 वर्षों में उपलब्ध कराया गया है कि अब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में औसतन प्रतिमाह 10 हजार से भी अधिक मरीज अपना इलाज कराने पहुंचते हैं। 2006-07 के फस्र्ट फेज में बेतिया, पावापुरी और मधेपुरा में 3 नये मेडिकल काॅलेज बनाने का निर्णय लिया गया लेकिन जमीन नहीं मिलने के कारण मधेपुरा में मेडिकल काॅलेज का निर्माण कराने में विलंब हुआ। मैं भुपेंद्र नारायण मंडल विष्वविद्यालय के कुलपति एवं उससे जूड़े लोगों को धन्यवाद देता हूं कि इन्होंने मेडिकल काॅलेज के लिये 25 एकड़ जमीन उपलब्ध कराई। आज जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल काॅलेज एवं अस्पताल मधेपुरा में चिकित्सकीय सेवाओं का शुभारंभ कर दिया गया है। मेडिकल काॅउंसिल आॅफ इंडिया से जैसे ही अनुमति मिलेगी, वैसे ही इस मेडिकल काॅलेज में नामांकन का काम भी प्रारंभ हो जायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में स्वास्थ्य के क्षेत्र में हम इतनी व्यवस्था एवं सुविधायें लोगों को उपलब्ध करा देंगे कि मजबूरी में लोगों को इलाज के लिये बाहर नहीं जाना पड़ेगा। लोग अपनी इच्छा से अगर जाना चाहें तो जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यहां मेडिकल काॅलेज के प्रांगण में अगस्त से पहले जननायक कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा भी लगाई जाएगी, जिसका आधार बन कर तैयार हो गया है ताकि उनके जन्म दिवस पर आॅफिसिअली समारोह का आयोजन किया जा सके। उन्होंने कहा कि समाजवादियों की भूमिका को याद करिये तो भूपेन्द्र नारायण मंडल और जननायक कर्पुरी ठाकुर जैसे शख्सियत ही हमें याद आते हैं। उन्होंने कहा कि 14 साल में न्याय के साथ हमने समाज के हर तबके और हर इलाके का विकास किया। हमलोगों ने किसी की भी उपेक्षा नहीं की। हाषिये पर खड़े सभी समुदाय के लोगों को विकास कर मुख्य धारा से जोड़ेने के लिये विषेष पहल की। पहले स्कूलों की क्या स्थिति थी यह सर्वविदित है। आज हर पंचायत में स्कूल स्थापित किया गया है। बापू और लोहिया ने नर-नारी समता की जो बात कही थी, उसको अमल में लाने के लिये हमलोगों ने पंचायत एवं नगर निकायों के चुनाव में महिलाओं को 50 प्रतिषत का आरक्षण दिया। महिलाओं को 50 प्रतिशत का यह आरक्षण देने वाला बिहार पहला राज्य है। इसके अलावा महिलाओं की सषक्तिकरण के लिये जीविका योजना शुरू की गई। हमलोगों का लक्ष्य 10 लाख स्वयं सहायता समूह बनाकर डेढ़ करोड़ परिवारों को जोड़ने का है। अब तक 9 करोड़ 13 लाख स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जा चुका है। इससे एक कराड़ से भी अधिक परिवार जूड़े हुये हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग वोट के चक्कर में अनाप-सनाप बयानबाजी करने में विष्वास रखते हैं। विकास से उन्हें कोई मतलब नहीं है। हर इच्छुक परिवार को बिजली का कनेक्षन उपलब्ध कराने के बाद हमलोगों ने अब सिचाई के लिये कृषि फीडर के माध्यम से इच्छुक किसानों को बिजली का कनेक्षन उपलब्ध करा रहे हैं। सात निष्चय योजना के तहत हर घर तक नल का जल, हर घर तक पक्की गली और नाली, हर घर शौचालय निर्माण की दिषा में काम तेजी से आगे बढ़ रहा है। कृषि के क्षेत्र में भी काफी विकास किया गया है। हम वोट के चक्कर में नहीं रहते हैं सेवा करना हमारा धर्म है। बिहार की जनता जिसे चाहे अपना सेवक बहाल करे, हम वोट के लिये काम नहीं करते। हमलोगों को बिहार की जनता यदि फिर काम करने का मौका दे तो हमलोगों का एक सपना है कि सिंचाई के लिये हर खेत तक पानी पहुंचा देंगे। हमलोग विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा के साथ-साथ आगे कौन-कौन से काम करने हैं उसके लिये भी सोचते हैं।
जनसभा में उपस्थित लोगों से आह्वान करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि आप सभी अपने बेटा-बेटी, भाई-बहन, भतिजा-भतिजी, भगिना-भगनी सब को जरूर पढ़ाइयेगा। हर ग्राम पंचायत में उच्च माध्यमिक विद्यालय की स्थापना की जा रही है। अब तक 6 हजार ग्राम पंचायतों में स्कूलों की स्थापना कर दी गई है। जो शेष ग्राम पंचायत हैं, उनमें अप्रैल माह से 9वीं कक्षा की पढ़ाई शुरू कर दी जायेगी। एक अध्ययन में यह पता चला कि अगर पति-पत्नी में पत्नी मैट्रिक पास है तो देष का औसत प्रजनन दर 2 है और बिहार का भी 2 है और अगर पत्नी इंटर पास है तो देष का औसत प्रजनन दर 1.7 है जबकि बिहार का 1.6 है। उन्होंने कहा कि 14 साल के दौरान किये लिये कामों का जब आप विष्लेषण करेंगे तो पायेंगे कि बिहार में कितना काम हुआ है। 15 साल पहले इस बिहार में बिजली, सड़क, स्वास्थ्य और षिक्षा की क्या हालत थी। यह आप सभी को पता है। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना की शुरुआत कर गरीब परिवारों के बच्चों को चार लाख रुपये तक की ऋण मुहैया कराई जा रही है ताकि वे इंटर से आगे की पढ़ाई कर उच्च षिक्षा हासिल कर सकें। हमलोगों ने विकास कार्यों के साथ-साथ समाज सुधार की दिषा में भी कई कदम उठाये हैं। शराबबंदी से महिलाओं को काफी फायदा पहुंचा है। दहेज प्रथा बाल विवाह उन्मूलन के साथ-साथ जलवायु परिवर्तन के कारण पर्यावरण संकट को देखते हुये हमलोगों ने जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरुआत की है। इस अभियान के तहत जल संरक्षण, सौर उर्जा को बढ़ावा, मौसम के अनुकूल कृषि जैसे 11 सूत्री कार्य किये जा रहे हैं। इस वर्ष 19 जनवरी को मानव श्रृंखला में 5 करोड़ 16 लाख लोगों ने 18 हजार किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला में एक दूसरे का हाथ पकड़कर जल-जीवन-हरियाली अभियान के प्रति अपना संकल्प का प्रकटीकरण किया। दुनिया में इतनी बड़ी मानव श्रृंखला आज तक कहीं नहीं बनी है। उन्होंने कहा कि सौर उर्जा ही अक्षय उर्जा है। हर महीने के पहले मंगलवार को सभी सरकारी विद्यालयों, महाविद्यालयों एवं कार्यालयों में जल-जीवन-हरियाली अभियान पर चर्चा की जायेगी ताकि अधिक से अधिक लोगों में पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागृति आ सके। यहां पर जो भी पानी होगा उसे पुनः शुद्ध एवं स्वच्छ कर इस्तेमाल किया जायेगा। निर्वाध रूप से मेडिकल काॅलेज में बिजली की आपूर्ति हो सके इसकी व्यवस्था भी सुनिष्चित की गई है। शाॅर्ट सर्किट जैसी घटनायें न हों उसका भी पुख्ता प्रबंध किया गया है। पूरे बिहार में बिजली के जर्जर तारों को बदल दिया गया है ताकि लोग सुरक्षित रहें। जलवायु परिवर्तन के संकट को अपने प्रयास से दूर करनी है ताकि आने वाली पीढ़ि सुरक्षित रहे। अधिकारियों से अपील करते हुये उन्होंने कहा कि मेरे हाथ से आज इन योजनाओं को षिलान्यास करवायें हैं इसका ध्यान रखियेगा कि निर्धारित समय सीमा से पहले निर्माण कार्य पूरा हो जाय। मधेपुरा से मेरा काफी लगाव है और सिंहेष्वर स्थान के प्रति मेरे मन में श्रद्धा का भाव बहुत पहले से है। मैं इस धरती को प्रणाम करता हूं। समाज में सदभाव प्रेम और भाईचारा का माहौल कायम रहे इसके लिये हम सब को मिलकर प्रयास करना चाहिये। समाज सुधार के प्रति प्रयत्नषील रहते हुये कम उम्र में लड़कियों की शादी न हो, इस बात का भी सब को ख्याल रखना चाहिये। 2016 में हमलोगों ने बिहार में शराबबंदी लागू की इससे बिहार की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। लोगों की आमदनी बढ़ी है। 2018 में जारी विष्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का जिक्र करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया भर मंें जितनी मौतें होती हैं उसमें 5.3 प्रतिषत मौत शराब पीने के कारण हुआ करती है। 20 से 39 प्रतिषत आयु वर्ग के लोगों की जितनी मौतें होती हैं उसमें 13.5 प्रतिषत शराब के कारण होती हैं। उन्होंने कहा कि शराब पीने से खराब कोई काम नहीं है। शराब के अवैध धंधा करने वाले दुष्प्रचार करने एवं गड़बड़ी करने की कोषिष में लगे रहते हैं। ऐसे लोगों से सचेत रहने की आवष्यकता है। हमलोगों ने सड़कों के निर्माण के साथ-साथ उसके रखरखाव की व्यवस्था भी सुनिष्चित कर दी है। लोक षिकायत निवारण अधिकार अधिनियम के तहत सड़कों के रखरखाव के काम को भी जोड़ा गया है ताकि षिकायत मिलने पर जिम्मेवार लोगों पर कार्रवाई की जा सके। लोगों से आह्वान करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि एकजुट होकर चलिये और बिहार को आगे बढ़ाते हुये देष के विकास में अपना योगदान दीजिये। 2008 में कोषी त्रासदी हुई थी उस समय हमने जो-जो काम कराने का वचन दिया था वह सब कुछ किया जा रहा है।
समारोह को ऊर्जा तथा मद्य निषेध उत्पाद एवं निबंधन सह मधेपुरा जिले के प्रभारी मंत्री श्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, स्वास्थ्य मंत्री श्री मंगल पाण्डेय, लघु जल संसाधन मंत्री श्री नरेन्द्र नारायण यादव, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग के मंत्री श्री रमेश ऋषिदेव, सांसद श्री दिनेश चंद्र यादव, सांसद श्री दिलेश्वर कामत, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव श्री संजय कुमार ने भी संबोधित किया।
इस अवसर पर विधायक श्री रत्नेश सदा, विधायक श्री निरंजन कुमार मेहता, विधायक श्री अनिरुद्ध प्रसाद यादव, विधान पार्षद श्री ललन सर्राफ, मधेपुरा जिला परिषद अध्यक्षा श्रीमती मंजू देवी, जदयू जिलध्यक्ष श्री विजेंद्र नारायण यादव, भाजपा जिलाध्यक्ष श्री स्वदेष कुमार यादव, लोजपा जिलाध्यक्ष श्री दिनेष पासवान, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री चंचल कुमार, भूपेंद्र नारायण मंडल, विश्वविद्यालय के कुलपति श्री अवध किशोर राय, भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति मोहम्मद फारुखी साहब, जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल, मधेपुरा के प्राचार्य डॉ0 अशोक कुमार यादव, जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल, मधेपुरा के अधीक्षक कर्नल अहमद अंसारी, कोशी प्रमंडलीय आयुक्त श्री के0 सेंथिल कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी श्री गोपाल सिंह, बी0एम0एस0आई0सी0एल0 के प्रबंध निदेशक श्री कौशल किषोर, पुलिस उप महानिरीक्षक (कोशी) श्री सुरेष प्रसाद चैधरी, जिलाधिकारी श्री नवजीत शुक्ला, पुलिस अधीक्षक श्री संजय कुमार सहित जननायक कर्पूरी ठाकुर राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल, मधेपुरा के चिकित्सकगण, नर्सेज, जीविका दीदियां एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *